यरुशलम में अमेरिकी दूतावास खुलने से भड़की हिंसा, 55 की मौत

By - May 15, 2018 07:15 AM
यरुशलम में अमेरिकी दूतावास  खुलने से भड़की हिंसा, 55 की मौत

यरूशलम: अमरीका ने सोमवार को तेल अवीव से अपना दूतावास स्थानांतरित कर यरूशलम में खोल दिया। अमरीका के इस कदम से भड़के फलस्तीनी लोग इस्राइली सैनिकों से भिड़ गए और इस दौरान इस्राइली बलों की गोलीबारी में गाजा में कम से कम 52 लोग मारे गए। यह 2014 के बाद से सबसे भीषण हिंसा है। गाजा में हमास संचालित स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा कि अब तक इस्राइली गोलीबारी में 52 लोग मारे गए हैं और 1,700 अन्य घायल हुए हैं। फलस्तीनी प्रदर्शनकारियों ने टायर जलाए और इस्राइली सैनिकों पर पथराव किया। राष्ट्रपति महमूद अब्बास की पार्टी फतह के नेतृत्व वाले एवं वेस्ट बैंक के रामल्ला शहर स्थित फलस्तीनी प्राधिकरण ने मरने वालों की संख्या बढऩे पर इस्राइल पर ‘भयानक कत्लेआम’ का आरोप लगाया।
अमरीका ने यरूशलम में खोला अपना दूतावास
अमरीकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने यरूशलम को इस्राइल की राजधानी के रूप में मान्यता देने के विवादास्पद कदम के तहत तेल अवीव से अपना दूतावास वहां स्थानांतरित करने की दिसंबर में घोषणा की थी। इस संवेदनशील मुद्दे पर दशकों तक अमरीका की तटस्थता से हटकर ट्रम्प ने यह घोषणा की थी।
अमरीकी राष्ट्रगान से हुआ दूतावास का उद्घाटन
यरूशलम में अमरीकी दूतावास खुलने के उद्घाटन समारोह की शुरुआत अमरीका के राष्ट्रगान से हुई। इस्राइल में अमरीका के राजदूत डेविड फ्रीडमैन ने रेखांकित किया कि इस्राइल को सबसे पहले देश के रूप में मान्यता देने वाले वाशिंगटन ने अब एक ऐसा कदम उठाया है जिसकी वर्षों से प्रतीक्षा की जा रही थी। उन्होंने कहा कि दूतावास को स्थानांतरित करने में ‘अमरीका ने एक बार फिर आगे रहकर काम किया है।’
दूतावास खुलने पर अमरीकी राष्ट्रपति ने कहा महान दिन
अमरीकी राजदूत ने कहा कि कदम राष्ट्रपति ट्रम्प के ‘ विजन , साहस और नैतिक स्पष्टता ’ का परिणाम है जिनके हम हमेशा ऋणी रहेंगे। यरूशलम में दूतावास खुलने पर ट्रम्प ने सुबह के अपने ट्वीट में इसे ‘इस्राइल के लिए एक महान दिन’ बताया। उन्होंने सुबह के इस ट्वीट में हिंसा का कोई जिक्र नहीं किया , लेकिन कहा , ‘ इस्राइल के लिए एक महान दिन ’।
अमरीका एक उच्चस्तरीय प्रतिनिधिमंडल दूतावास खुलने संबंधी समारोह में शामिल हुआ जिसमें अमरीकी उप विदेश मंत्री जॉन सुलिवन , वित्त मंत्री स्टीवन मुनचिन , वरिष्ठ सलाहकार एवं ट्रम्प के दामाद जेअर्ड कुशनेर , वरिष्ठ सलाहकार एवं ट्रम्प की बेटी इवांका ट्रम्प और अंतरराष्ट्रीय वार्ता मामलों के विशेष प्रतिनिधि जैसन ग्रीनब्लैट शामिल थे। इस अवसर पर इस्राइली प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू भी मौजूद थे।