अतीत की समझ ही उज्ज्वल भविष्य का आधार हो सकती है: मुख्यमंत्री

By Akhilesh Srivastava - Jun 14, 2018 12:38 PM
अतीत की समझ ही उज्ज्वल भविष्य का आधार हो सकती है: मुख्यमंत्री

निलय टाइम्स 

अखिलेश श्रीवास्तव

लखनऊ: उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी ने कहा कि अतीत की समझ ही उज्ज्वल भविष्य का आधार हो सकती है। अतीत आगे बढ़ने के लिए प्रेरित करता है, किन्तु इसके लिए समाज के सामने ऐसे प्रेरणा पुंज होने चाहिए जिनका व्यक्तित्व और कृतित्व जनमानस का पथ प्रकाशित करता हो। महाराणा प्रताप ऐसे ही प्रेरणा पुंज थे। वर्तमान परिप्रेक्ष्य में भी स्वदेश, स्वधर्म और स्वाभिमान का उनका आदर्श पूरे देश के लिए प्रेरक और अनुकरणीय है।

मुख्यमंत्री जी आज यहां महाराणा प्रताप जयन्ती के उपलक्ष्य में ‘अवध प्रहरी’ पाक्षिक पत्रिका के ‘युवा शौर्य विशेषांक’ के विमोचन के उपरान्त अपने विचार व्यक्त कर रहे थे। विशेषांक के प्रकाशन के लिए पत्रिका के सम्पादक एवं उनके सहयोगियों को बधाई देते हुए मुख्यमंत्री जी ने कहा कि वर्तमान समय की आवश्यकता है कि युवा अपने इतिहास को ठीक से जानें, समझें और इतिहास पुरुषों से प्रेरणा प्राप्त करें। उन्होंने भरोसा जताया कि विशेषांक के माध्यम से वर्तमान पीढ़ी को महाराणा प्रताप के जीवन के विभिन्न पक्षों को जानने और समझने का अवसर मिलेगा।

मुख्यमंत्री जी ने कहा कि महाराणा प्रताप राष्ट्र गौरव हैं। वे शताब्दियों से भारतीय जनमानस के प्रेरणा पुंज रहे हैं। अपनी वीरता और देशभक्ति के लिए महाराणा प्रताप को अत्यन्त सम्मान के साथ याद किया जाता है। पूरा देश महाराणा प्रताप से स्वाभिमान और चरित्र की दृढ़ता की सीख लेता रहा है। विपरीत परिस्थितियों और अनेक चुनौतियों के बावजूद महाराणा प्रताप ने अकबर की अधीनता स्वीकार नहीं की। अपने राज्य और स्वाभिमान की रक्षा के लिए उन्होंने जिस शौर्य और पराक्रम का परिचय दिया, उसके कारण ही लगभग पांच सौ वर्षों के पश्चात भी उन्हें याद किया जाता है। उनका शौर्य और पराक्रम आज भी वर्तमान पीढ़ी को प्रेरित कर रहे हैं।

मुख्यमंत्री जी ने कहा कि वनवासी समाज अपने को महाराणा प्रताप का वंशज मानते हैं। जनजाति समाज में अपने देश और धर्म के लिए बलिदान की भावना है। थारू समाज ने महाराणा प्रताप से जुड़ी अपनी पहचान को आज भी सुरक्षित और संरक्षित रखा है। इस समाज के बीच में कार्य करते हुए मैंने स्वयं महाराणा प्रताप के प्रति थारू समाज के लगाव और श्रद्धा को अनुभव किया है। स्वामिभक्ति एवं गतिशील चेतना का प्रतीक महाराणा प्रताप का अश्व चेतक, आज भी थारू समाज के घर-घर में पूजा जाता है।

मुख्यमंत्री जी ने कहा कि राष्ट्रभक्ति की बात होने पर महाराणा प्रताप, छत्रपति शिवाजी, गुरू गोविन्द सिंह, महारानी लक्ष्मीबाई तथा उन अनेक हुतात्माओं की याद आती है, जिन्होंने देश के लिए अपना सब कुछ न्यौछावर कर दिया। हमारे राष्ट्र नायकों के संघर्ष और सफलता का आधार सामाजिक समरसता की भावना थी। इन सभी महापुरुषों ने दलित और पिछड़ी कही जाने वाली जातियांे को जोड़ने के लिए योजक की भूमिका निभायी। प्रत्येक स्थिति में, यहां तक की शत्रु पक्ष की महिलाओं के लिए भी सुरक्षा और सम्मान का इन महापुरुषों का भाव ही भारतीयता का वास्तविक भाव है। उन्होंने कहा कि इन महापुरुषों के व्यक्तित्व और कृतित्व से प्रेरणा प्राप्त कर भावी जीवन को सुरक्षित बनाया जा सकता है।