भाकपा ने स्वामीनाथन कमीशन की रिपोर्ट को लागू करने की घोषणा को झूठा और धोखाधड़ी बताया

By - Jul 05, 2018 11:16 AM
भाकपा ने स्वामीनाथन कमीशन की रिपोर्ट को लागू करने की घोषणा को झूठा और धोखाधड़ी बताया

लखनऊ। भारत की कम्युनिस्ट पार्टी (मार्क्सवादी) उ0प्र0 राज्य सचिव मण्डल ने एक प्रेस विज्ञप्ति में मोदी सरकार द्वारा किसानों के उत्पाद के मूल्य में डेढ़ गुना वृद्धि करने और स्वामीनाथन कमीशन की रिपोर्ट को लागू करने की घोषणा को झूठा और धोखाधड़ी बताया है। स्वामीनाथन कमीशन ने जिन आधारों पर फसलों की लागत को निर्धारित करने के लिए कहा है, उसके विपरीत मोदी सरकार ने गलत आधारों पर आंकलन करके डेढ़ गुना देने की फर्जी घोषणा की है। चुनाव के समय सरकार की नीतियों से असंतुष्ट किसानों को संतुष्ट करने और उनका समर्थन हासिल करने के उद्देश्य से मोदी सरकार किसानों के साथ यह क्रूर मजाक कर रही है। केन्द्र सरकार द्वारा घोषित न्यूनतम समर्थन मूल्य पिछले वर्ष राज्य सरकारों जिनमें भाजपा की सरकारें भी शामिल हैं, द्वारा प्रस्तावित समर्थन मूल्य से भी काफी कम है। स्वामीनाथन कमीशन की संस्तुतियों के आधार पर गणना करने पर सरकार द्वारा घोषित कीमत में काफी अंतर है। धान की कीमत में लगभग 600
रूपये और दालों की कीमत में 1800 से 2000 रूपये तक का अंतर है। भारत की कम्युनिस्ट पार्टी (मार्क्सवादी) केन्द्र सरकार द्वारा किसानों के साथ की जा रही इस धोखाधड़ी और झूठ का पर्दाफाश करेगी और किसानों के हर संघर्ष का पूरी तरह से समर्थन और स्वामीनाथन कमीशन की संस्तुतियों को पूरी तरह से लागू करने की मांग करेगी।