कांग्रेस को किसानों की नहीं, केवल एक परिवार की चिंता रही: नरेंद्र मोदी

By - Jul 11, 2018 12:42 PM
कांग्रेस को किसानों की नहीं, केवल एक परिवार की चिंता रही: नरेंद्र मोदी

मलोट: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पंजाब के मलोट में किसान कल्याण रैली को संबोधित किया. इस दौरान उन्होंने कांग्रेस पार्टी और नेहरू-गांधी परिवार पर तीखा हमला बोला और उन पर लंबे समय तक सत्ता में रहने पर भी किसानों की उपेक्षा करने का आरोप लगाया. उन्होंने कहा कि कांग्रेस को कभी किसानों की चिंता नहीं रही, बल्कि एक परिवार की चिंता रही. केंद्रीय कैबिनेट द्वारा पिछले सप्ताह खरीफ फसलों पर किसान को 150 प्रतिशत एमएसपी देने का निर्णय लिये जाने के बाद एनडीए की यह पहली किसान रैली थी. लोकसभा चुनाव के ठीक नौ महीने पहले आधुनिक खेती करने वाले राज्य पंजाब में किसान कल्याण रैली का आयोजन कर बीजेपी व एनडीए ने किसानों का विश्वास हासिल करने का प्रयास किया है. यहां पंजाब व हरियाणा दोनों राज्यों के किसान व एनडीए के प्रमुख नेता पहुंचे थे.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने संबोधन में पंजाब को वीरों की भूमि बताया व कहा कि हमारे किसानों ने मेहनत करने में कभी कमी नहीं रखी. उन्होंने कहा कि कृषि उत्पादन में बीते चार साल में कई रिकार्ड टूट गये. उन्होंने उम्मीद जतायी कि इस साल भी नये रिकार्ड बनेंगे. उन्होंने कहा कि दूध का देश में 20 प्रतिशत व शहर का 30 प्रतिशत उत्पादन बढ़ा है. उन्होंने कहा कि उत्पादन बढ़ने के बावजूद किसान खुशहाल नहीं हो पाये. किसानों को कभी सम्मान नहीं मिला. इनकी चिंता नहीं की गयी. 70 साल में सिर्फ और सिर्फ एक ही परिवार की चिंता की गयी, जबकि और भी वैज्ञानिक तरीके किसानों के लिए अपनाये जा सकते थे. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि 14 खरीफ फसलों को 150 प्रतिशत एमएसपी देने का निर्णय लिया गया. उन्होंने कहा कि कुछ फसलों पर 200 प्रतिशत तक एमएसपी देने का निर्णय लिया गया. इससे पंजाब, हरियाणा एवं राजस्थान के किसानों को काफी लाभ होगा. उन्होंने कहा कि धान, कपास, मक्का, ज्वार, रागी का समर्थन मूल्य बढ़ाया गया है.

प्रधानमंत्री ने कहा कि जिनके पास जमीन है उन किसान को तो न्यूनतम समर्थन मूल्य का लाभ मिलेगा ही, लेकिन पट्टे वाले किसानों को भी इसका लाभ मिलेगा. एमएसपी में पट्टे की लागत, मशीन, बिजली का खर्च सबकुछ जोड़ा गया है. उन्होंने कहा कि देश को भरोसा है कि इसका लाभ मिलेगा. लेकिन, इससे कांग्रेस की नींद उड़ गयी है. उन्हें यह समझ में नहीं आ रहा है कि 17 साल पहले उन्होंने ऐसा निर्णय करने की हिम्मत क्यों नहीं दिखायी. तब भी किसान आंदोलन हुए, लेकिन कांग्रेस सारी मांगों व फाइलों को दबाकर बैठ जाती है.उन्होंने कहा कि किसानों की फसल बर्बाद नहीं हो इसके लिए किसान संपदा योजना चल रही है. इसके तहत देश भर में आधुनिक गोदाम बनाये जा रहे हैं. सप्लाई चेन बनाया जा रहा है. अनाज, फल व सब्जियों के वैल्यू एडिशन से किसानों की आय कैसे बढ़ायी जा सकती है इसके लिए खाद्य प्रसंस्करण मंत्री हरसिमरत कौर लगातार प्रयास कर रही हैं.

उन्होंने इसके लिए रोड कनेक्टिविटी पर भी काम किया जा रहा है. उन्होंने इंटरनेट पर फसल बेचने का उल्लेख किया. कहा कि किसान कहीं पर घर बैठे-बैठे मोबाइल फोन से फसल बेच सकते हैं. उन्होंने कहा कि यह योजना किसानों को बिचैलियों से बचाने में प्रभावी सिद्ध होने वाली है. पीएम मोदी ने कहा कि मैं किसानों को यूरिया की कमी के दिनों की याद दिलाना चाहता हूं, जब उसकी ब्लैक मार्केटिंग होती थी, किसानों को उसके लिए लाठी खानी होती थी. लेकिन, आज यूरिया को 100 प्रतिशत नीम कोटिन कर इसकी उपलब्धता सुनिश्चित की गयी है. उन्होंने कहा कि स्वायल हेल्थ कार्ड मिट्टी का हेल्थ कार्ड है, कांग्रेस के समय में 40-50 लैब खुले थे, हमने 9000 लैब खोलने को मंजूरी दे दी. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि पराली जलाने से रोकने के लिए 50 करोड़ के फंड की व्यवस्था की गयी है. यह राशि पंजाब, हरियाणा व उत्तरप्रदेश में खर्च होनी है, जिसका ज्यादा हिस्सा पंजाब में आना है. उन्होंने कैंसर से निबटने के लिए भटिंडा में कैंसर अस्पताल खोले जाने व अन्य योजनाओं की चर्चा की.