स्वम सहायता समूहों के व्यवसाय से आत्मनिर्भर बन ,महिला सशक्तिकरण का सपना हो रहा पूरा-डीएम माला श्

By Akhilesh Srivastava - Aug 10, 2018 12:56 PM
स्वम सहायता समूहों के व्यवसाय से आत्मनिर्भर  बन ,महिला सशक्तिकरण का सपना हो रहा पूरा-डीएम माला श्

‘‘एक जनपद एक उत्पाद’’ समिट का कलेक्ट्रेट सभागार बहराइच में हुआ लाईव प्रसारण

लाभार्थियों को बाॅटे गये प्रमाण-पत्र
निलय टाइम्स
अखिलेश श्रीवास्तव

बहराइच 10 अगस्त। इन्दिरा गाॅधी प्रतिष्ठान, लखनऊ में मा. राष्ट्रपति श्री राम नाथ कोविन्द की गरिमामयी उपस्थिति में आयोजित ‘‘एक जनपद एक उत्पाद’’ समिट के सजीव प्रसारण के लिए कलेक्ट्रेट सभागार बहराइच कलेक्ट्रेट सभागार में आयोजित कार्यक्रम के दौरान विधायक महसी सुरेश्वर सिंह कहा कि सबका साथ सबका विकास की केन्द्र व प्रदेश सरकार का लक्ष्य है। उन्होंने कहा कि इस आयोजन के माध्यम उन्हें यह जानकार अत्यन्त प्रसन्नता हुई कि महिलाओं में जागरूकता का संचार हो रहा है, और वे विभिन्न क्षेत्रों में आगे भी आ रही हंै। उन्होंने कहा कि महिला स्वयं सहायता समूहों के माध्यम से महिलाएं सामुदायिक तथा व्यक्तिगत रूप से स्वावलम्बी बन रही हैं। उन्होंने कहा कि महिलाओं के स्वावलम्बी बनने से ही महिला सशक्तीकरण का सपना पूरा होगा। उन्होंने अधिकारियों से अपेक्षा की कि अधिक से अधिक महिलाओं को रोज़गारपरक योजनाओं से आच्छादित करें। कार्यक्रम के दौरान शक्ति स्वयं सहायता समूह की अध्यक्ष श्रीमती सुनीता यादव व फरज़ाना स्वयं सहायता समूह की अध्यक्ष श्रीमती फरज़ाना ने अपने अनुभव भी साझा किये। 


जिलाधिकारी माला श्रीवास्तव ने संयुक्त रूप से विकास खण्ड मिहींपुरवा अन्तर्गत राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन के तहत गठित 05 महिला स्वयं सहायता समूहों, ग्राम सेमरीघटही के स्वयं सहायता समूह काॅजल व माॅ गंगे तथा ग्राम निधिपुरवा के स्वयं सहायता समूह सन्तोषी, माला व सितारा को सीसीएल पासबुक का वितरण, जिला नगरीय विकास अभिकरण डूडा बहराइच द्वारा मुद्रा लोन योजना के अन्तर्गत 24 लाभार्थियों को सब्सिडी प्रदान करने का प्रमाण-पत्र एवं डूडा विभाग से संचालित समूहों शक्ती स्वयं सहायता समूह, भारतीय रोज़गार एवं स्वयं सहायता समूह, कंचन स्वयं सहायता समूह, नारी महिला रोज़गार स्वयं सहायता समूह, प्रीति स्वंय सहायता समूह, गुलशन स्वयं सहायता समूह, पूनम स्वयं सहायता समूह, नाहिद मिर्ज़ा स्वयं सहायता समूह, सायरा स्वयं सहायता समूह, रहनुमा स्वयं सहायता समूह एवं सहनशील स्वयं सहायता समूहों के द्वारा उत्कृष्ट कार्य करने के लिए उन्हें प्रमाण-पत्र प्रदान कर प्रोत्साहित किया गया। 

कार्यक्रम के दौरान प्रधानमंत्री मुद्रा योजना हेतु सिंडीकेट बैंक द्वारा रेडीमेट कपड़े की दुकान हेतु विजय कुमार, दीपक गुप्ता, आजम खान, मो. जहीद व ज्योती गुप्ता को 05-05 लाख, मेडिकल स्टोर हेतु अमर श्रीवास्तव व फहीम खान को 05-05 लाख एवं देवेन्द्र कुमार मिश्रा को 02 लाख, टेलर की दुकान हेतु वसीम अहमद अंसारी,  फर्नीचर की दुकान के लिए जिलेदार, बाइक सर्विस एवं रिपेयरिंग सेन्टर हेतु नवसाद खान, हैण्डलूम की दुकान हेतु मो. समीम, पारले उत्पाद हेतु रिटेल टेªडिंग हेतु अभय गुप्ता, नमकीन उत्पाद हेतु घनश्याम दास, इलेक्ट्रानिक दुकान हेतु मो. अरसद व जनरल स्टोर हेतु मो. हनीफ खां को 05-05 लाख, बुटीक की दुकान हेतु जगदीश प्रसाद श्रीवास्तव को 02 लाख, बिन्दी के उत्पाद हेतु पूनम श्रीवास्तव को 03 लाख, बुक सेन्टर हेतु सूर्य प्रकाश मिश्र को 02 लाख, ब्युटी पार्लर हेतु शबनम शैफी को 01 लाख तथा ई-रिक्सा हेतु आनन्द कुमार मिश्रा को 01.20 लाख का ऋण स्वीकृत पत्र का वितरण किया गया।

कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए जिलाधिकारी माला श्रीवास्तव ने कहा कि ‘‘एक जनपद एक उत्पाद’’ योजना के अन्तर्गत जनपद बहराइच के लिए राईस उत्पाद को प्रस्तावित किया गया है। उन्होंने कहा कि महिला स्वयं सहायता समूहों के गठन से विभिन्न क्षेत्रों में महिलाएं आगे आ रही हैं। जिलाधिकारी ने सभी सम्बन्धित अधिकारियों को निर्देश दिया कि समूहों को आवश्यकतानुसार मार्गदर्शन भी प्रदान किया जाय। उन्होंने कहा कि समूहों को नये-नये ट्रेण्डों की भी जानकारी उपलब्ध करायी जाय तथा विषय विशेषज्ञों के माध्यम से इन्हें प्रशिक्षित भी कराया जाय, जिससे समूह के लोगों का व्यवसाय फल-फूल सके।

जिलाधिकारी ने कहा कि अच्छा कार्य करने वाले समूह से प्रेरित होने वाले दूसरे समूहों का भी उत्साहवर्धन कर उन्हें भी रोज़गार से जोड़ा जाय ताकि महिला सशक्तीकरण का उद्देश्य पूरा हो सके। उन्होंने कहा कि केन्द्र व राज्य सरकार इस बात के लिए दृढ़ संकल्पित है कि सभी लोगों के लिए रोज़गार के ज्यादा से ज्यादा अवसर पैदा किये जा सकंे। उन्होंने कहा कि रोज़गार के अवसर प्रदान करने के उद्देश्य से प्रदेश में इन्वेस्टर्स समिट जैसे बड़े आयोजन किये गये हैं और आज मा. राष्ट्रपति श्री राम नाथ कोविंद की गरिमामयी उपस्थिति में आयोजित ‘‘एक जनपद एक उत्पाद’’ समिट की मंशा भी यही है कि प्रत्येक जनपद के उत्पादांे को प्रोत्साहित किया जाय। 

जिलाधिकारी ने कहा कि कृषि आधारित जनपद बहराइच में रेशम कीट उत्पादन की अपार संभावनाएं हैं। उन्होंने कहा कि कृषि आधारित उद्योगों की एक विशेष बात यह है कि इससे जुड़े हुए लोगों को अपने पारम्परिक कार्यों जैसे खेती इत्यादि के लिए भी समय मिल जाता है। उन्होंने रोज़गार सृजन से सम्बन्धित विभागीय अधिकारियों एवं बैंक प्रतिनिधियों का आहवान्ह किया कि चिन्हित व्यक्तियों को समय से लाभान्वित किया जाय।