शीघ्र ही खुले में शौच की प्रथा से मुक्त होगा जनपद बहराइच: जिलाधिकारी माला श्रीवास्तव

By Akhilesh Srivastava - Nov 16, 2018 08:16 AM
शीघ्र ही खुले में शौच की प्रथा से मुक्त होगा जनपद बहराइच: जिलाधिकारी माला श्रीवास्तव

शीघ्र ही खुले में शौच की प्रथा से मुक्त होगा जनपद बहराइच: जिलाधिकारी

निलय टाइम्स 

अखिलेश श्रीवास्तव

लखनऊ।बहराइच में स्वच्छ भारत मिशन (ग्रामीण) की समीक्षा के लिए कलेक्ट्रेट सभागार में आयोजित बैठक के दौरान जिलाधिकारी माला श्रीवास्तव ने निर्देश दिया कि बेस लाइन सर्वे 2012 के अनुसार जिन ग्राम पंचायतों में शत-प्रतिशत धनराशि जारी कर दी गयी है, ऐसी ग्राम पंचायतों के ग्राम प्रधानों के माध्यम से निर्धारित शौचालयों का निर्माण कार्य यथाशीघ्र पूर्ण कराया जाय। जिलाधिकारी ने यह भी निर्देश दिया कि संतोषजनक डाटा फीडिंग कार्य न करने वाले आपरेटरों को चिन्हित कर उनकी संविदा समाप्त की जाय।

जिलाधिकारी ने निर्देश दिया कि बेस लाइन सर्वे में छूटे हुए परिवारों का सर्वे डाटा प्रत्येक दशा में 14 नवम्बर तक भारत सरकार के वेबसाइट पर अपलोड करा दिया जाय। उन्होंने यह भी निर्देश दिया कि पूर्व में घोषित 179 ओ.डी.एफ. ग्रामों में 19 नवम्बर 2018 तक संचालित होने वाले ‘‘स्वच्छ भारत विश्व शौचालय दिवस’’ के अवसर पर विशेष सत्यापन अभियान के दौरान सालिड वेस्ट मैनेजमेन्ट की कार्ययोजना भी तैयार की जाय। अभियान के दौरान सामुदायिक, पारिवारिक साफ-सफाई, बच्चों के मल का समुचित निस्तारण, सार्वजनिक स्थलों की समुचित साफ-सफाई, जल भराव तथा कूड़ा करकट के उचित निस्तारण पर विशेष ध्यान दिये जाने के साथ-साथ लोगों को खुले में शौच करने से होने वाले नुकसानात इत्यादि के बारे में आगाह किया जाय।

जिलाधिकारी ने यह भी निर्देश दिया कि ऐसे ग्रामों में नेहरू युवा केन्द्र सहित अन्य स्वैच्छिक संगठनों के माध्यम से स्वच्छता जागरूकता कार्यक्रम आयोजित किये जायें। सार्वजनिक स्थलों पर अलग-अलग डस्टबिन रखवाये जायें, स्वच्छता जागरूकता से सम्बन्धित वाला राईटिंग व स्लोगन की राईटिंग करायी जाय। सुन्दर व कलात्मक अक्षरों में ओ.डी.एफ. ग्राम का साइन बोर्ड भी लगवाया जाय। उन्होंने समस्त खण्ड विकास अधिकारियों व एडीओ पंचायत को सत्यापन अभियान में विशेष रूचि लिये जाने का भी निर्देश दिया। उन्होंने कहा कि ग्राम स्तर पर गठित निगरानी समितियों को पूरी तरह से सक्रिय करने के साथ-साथ सत्यापन टीम में लेखपालों को भी शामिल किया जाय तथा प्रत्येक दिन सत्यापन कार्य की प्रगति रिपोर्ट प्रेषित की जाय। 

बैठक के दौरान जानकारी दी गयी कि बेस लाइन सर्वे के आधार पर जनपद के 99 प्रतिशत गाॅव खुले में शौच से मुक्त हो गये हैं। मात्र 30 गाॅव शेष रह गये हैं। शीघ्र ही सम्पूर्ण जनपद खुले में शौच से मुक्त हो जायेगा