दहेज की बलि चढ़ गई एक और बेटी

By - Mar 15, 2018 09:44 AM
दहेज की बलि चढ़ गई एक और बेटी

बुलंदशहरः दहेज के लालच में लोग इतने अंधे हो गए हैं कि वह किसी घिनौने जुर्म को अंजाम देने से भी पीछे नहीं हटते। ताजा मामला बुलंदशहर जिले का है। जहां ससुरालियों ने अपनी बहु को दहेज ना मिलने पर जिंदा जला डाला। इसके बाद गुपचुप तरीके से उसका संस्कार कर घर से फरार हो गए।
जानिए पूरा मामला 
जानकारी के मुताबिक जहांगीराबाद कोतवाली क्षेत्र के गांव डबकौरा में दहेज लोभियों ने दहेज की खातिर विवाहित को जला कर मार डाला। गांव के ही किसी के फोन करने पर मायके वालों को पता चला और वे ससुराल पहुंचे। वहीं स्याना कोतवाली क्षेत्र के गांव सराय निवासी पूरन सिंह ने कोतवाली में दी तहरीर में बताया कि उसकी छोटी बहन रामरोशनी की शादी लगभग 3 वर्ष पहले मिंटू पुत्र घनश्याम निवासी गांव डबकौरा के साथ की थी।
एक लाख की मांग कर रहे थे ससुराली
साथ ही उसने बताया कि शादी में अपनी हैसियत से ज्यादा दान दहेज भी दिया था, लेकिन मिंटू शादी के कुछ दिन बाद से ही शादी में दहेज कम देने का बहाना करके एक लाख रुपए की मांग करता था। हमने इतने पैसे और दे पाने में असमर्थता जाहिर की थी। पैसों की मांग पूरी न होने पर मिंटू, उसकी बहन और बहनोई आए दिन उसके साथ मारपीट करते थे। कई बार मिंटू को समझाया, लेकिन उसकी समझ में कुछ नहीं आया।
विवाहिता को जिंदा जलाया 
वहीं मंगलवार की रात्रि मिंटू, उसकी बहन उषा और बहनोई धर्मवीर पुत्र राजपाल ने मिलकर रामरोशनी को जलाकर मौत के घाट उतार दिया और गुपचुप तरीके से ही उसका अंतिम संस्कार कर दिया। जब मायके वाले बेटी के ससुराल पहुंचे तो यहां  दामाद मिंटू का घर बंद था। परिजनों को शक हुआ तो पूरे मामले की तहरीर कोतवाली पहुंचकर पुलिस को दी।
क्या कहती है पुलिस 
इस मामले में कोतवाली प्रभारी कुलवीर सिंह पंवार ने बताया कि मृतका के भाई पूरन सिंह की तहरीर पर पति मिंटू, बहन उषा और बहनोई धर्मवीर उर्फ गप्पी पुत्र राजपाल सिंह निवासी डबकौरा के खिलाफ धारा 323, 498ए, 304बी, 201, दहेज अधिनियम 3, 4 के तहत मुकदमा दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। अभी तक पुलिस किसी भी आरोपी को गिरफ्तार नहीं कर सकी है।