इंग्लैंड के मैदान पर भारतीय खिलाड़ियों का होगा असली टेस्ट

By - Jul 28, 2018 09:35 AM
इंग्लैंड के मैदान पर भारतीय खिलाड़ियों का होगा असली टेस्ट

इंग्लैंड दौरे पर कुछ ऐसे भारतीय चेहरे हैं, जिनका प्रदर्शन पिछले कुछ टेस्ट मैचों से अच्छा नहीं रहा है. ऐसे में इन्हें इंग्लिश ज़मीन पर अपने आप को साबित करने की चुनौती है.
इंग्लैंड दौरे पर शिखर धवन की अग्निपरीक्षा होगी. क्रिकेट के छोटे फ़ॉर्मेट में धवन का कोई तोड़ नहीं है, लेकिन टेस्ट में और ख़ासकर विदेशी पिचों पर उन्हें अपने आप को साबित करने की ज़रूरत है. धवन ने न्यूज़ीलैंड में एक शतक बनाया है लेकिन दक्षिण अफ़्रीका, ऑस्ट्रेलिया और इंग्लैंड की पिचों पर उनके बल्ले से कोई शतक नहीं निकला है. 30 टेस्ट पुराने धवन ने इंग्लैंड में खेले 3 टेस्ट में सिर्फ़ 122 रन बनाए हैं. वहीं, उन्होंने अपने करियर में 30 टेस्ट में 2153 रन, 7 शतक, 5 अर्द्धशतक बनाए हैं. इंग्लैंड की पिचें मुरली विजय का भी ख़ास इम्तिहान लेगी. टेस्ट स्पेशलिस्ट विजय डिफ़ेंसिव खेलने में माहिर हैं लेकिन दक्षिण अफ़्रीका दौरे पर बाहर जाती गेंदों पर खेलने का मोह नहीं त्याग सके. विजय को इंग्लिश गेंदबाज़ों की बाहर जाती गेंदों पर सावधान रहने की ज़रूरत है. करियर में 57 टेस्ट खेल चुके विजय ने 3907 रन, 12 शतक, 15 अर्द्धशतक बनाए हैं. लेकिन इंग्लैंड की ज़मीन पर उनके नाम पांच टेस्ट में एक शतक और दो अर्द्धशतक के साथ 402 रन हैं. चेतेश्वर पुजारा और विजय दोनों का रोल भारत की जीत में अहम रहेगा. दोनों बल्लेबाज़ों पर विराट कोहली और अजिंक्या रहाणे को नई गेंद से बचाने का ज़िम्मा होगा पिछले दक्षिण अफ़्रीका दौरे पर पुजारा कुछ ख़ास नहीं कर सके थे. ऐसे में वो इसकी भरपाई इंग्लैंड दौरे पर करने की कोशिश करेंगे. टेस्ट करियर में 58 टेस्ट में 4531 रन, 14 शतक, 17 अर्द्धशतक पुजारा के नाम हैं. लेकिन इंग्लैंड में 5 टेस्ट में 222 रन, 1 अर्द्धशतक के साथ पुजारा का प्रदर्शन औसत रहा है. वैसे इंग्लिश काउंटी में खेलने का अनुभव पुजारा के काम आ सकता है.
वहीं, 2010 के बाद अफ़ग़ानिस्तान के ख़िलाफ़ टीम में वापसी करने वाले दिनेश कार्तिक पर सबकी नज़र होगी. अभ्यास मैच में कार्तिक ने बल्ले से अच्छा प्रदर्शन किया लेकिन विकेटकीपिंग में चुस्त नहीं दिखे. कार्तिक के लिए टेस्ट टीम में जगह बनाने का इससे अच्छा मौक़ा नहीं मिलेगा. महेंद्र सिंह धोनी के जाने के बाद टीम में एक अच्छे विकेटकीपर-बल्लेबाज़ की कमी दिखाई देती है. अगर कार्तिक ने मौक़ा गंवाया तो ऋषभ पंत जैसे युवा ख़िलाड़ी कतार में हैं. दिनेश ने अपने टेस्ट करियर में 24 टेस्ट खेलते हुए 1004 रन बनाए हैं जिसमें 1 शतक, 7 अर्द्धशतक शामिल हैं. वैसे इंग्लैंड में 3 टेस्ट में 263 रन, 3 अर्द्धशतक कार्तिक के नाम है.
दक्षिण अफ़्रीका दौरे पर एक ऑल राउंडर के रूप में हार्दिक पांड्या की जमकर तारीफ़ हुई. अफ़ग़ानिस्तान के ख़िलाफ़ भी पांड्या ने बल्ले का दम दिखाया. पांड्या ने 7 टेस्ट में 368 रन, 1 शतक और 3 अर्द्धशतक की मदद से बनाए हैं. सही मायने में ऑल राउंडर होने का तमगा हासिल करने के लिए पांड्या को गेंद और बल्ले दोनों से इंग्लिश पिचों पर कमाल दिखाना होगा.