मेथी का ज्यादा सेवन बढ़ा सकता है आपकी मुश्किलें

By - Jul 07, 2018 05:10 AM
मेथी का ज्यादा सेवन बढ़ा सकता है आपकी मुश्किलें

मेथी के बीजों को अक्सर कई तरह की शारीरिक समस्याओं से निजात पाने के लिए इस्तेमाल किया जाता है। डायबिटीज से लेकर कोलेस्ट्रॉल को नियंत्रित करने में यह कारगर साबित होता है। लेकिन अगर आप सोचते हैं कि इससे आपको सिर्फ लाभ ही प्राप्त होते हैं तो आप गलत हैं। मेथी के बीजों का ज्यादा सेवन आपके लिए कई तरह की मुश्किलें भी खड़ी कर सकता है। तो चलिए जानते हैं इसके बारे में−
जी मचलाना
आमतौर पर अगर दो से पांच ग्राम मेथी के बीजों को सेवन यदि दिन में दो बार किया जाए तो इससे आपको किसी भी तरह का नुकसान नहीं होता, लेकिन वहीं अगर आप दिन में करीबन 100 ग्राम मेथी के बीजों का सेवन करते हैं तो इससे आपको जी मचलाने की शिकायत हो सकती है। इसलिए अगर आपको मेथी के बीजों के सेवन के बाद जी मचलाना या फिर उल्टी जैसा मन होता है तो आप इसका सेवन सीमित मात्रा में ही करें।
अपच
मेथी के बीजों का अत्यधिक सेवन आपके पाचन तंत्र पर विपरीत प्रभाव डाल सकता है। इसके कारण आपको पेट में दर्द, डायरिया, अपच व घबराहट जैसी शारीरिक समस्याएं हो सकती हैं। इसलिए अपने पाचन तंत्र को दुरूस्त रखने के लिए आप मेथी के बीजों का सेवन थोड़ा और सोच−समझकर ही करें।
भूख न लगना
बहुत से शोध इस बात की पुष्टि करते हैं कि यदि आप अत्यधिक मेथी के बीजों का सेवन करते हैं तो इससे आपको जल्द भूख नहीं लगती। दरअसल, मेथी के बीज आपकी भूख को दबा देते हैं, जिसके कारण आपके शरीर में आवश्यक पोषक तत्व नहीं पहुंच पाते। धीरे−धीरे इसके कारण आपको ईटिंग डिसऑर्डर भी पैदा हो जाते हैं। 
गर्भपात की संभावना
अगर आप गर्भवती हैं तो आवश्यकता से अधिक मेथी के बीजों को सेवन आपके गर्भ में पल रहे बच्चे पर विपरीत प्रभाव डाल सकता है। इतना ही नहीं, इसके कारण आपके गर्भपात की संभावना काफी हद तक बढ़ जाती है। दरअसल, मेथी के बीजों में सैपोनिन्स नामक तत्व पाया जाता है जो गर्भपात का कारण बनता है। इसके अतिरिक्त अगर आप गर्भवती नहीं भी हैं लेकिन अगर आपके पीरियड्स चालू हैं तो भी मेथी के बीजों का सेवन करने से परहेज करें। मेथी के बीजों में सैपोनिन्स अतिरिक्त ब्लीडिंग का कारण बनता है। 
लो शुगर लेवल
जिन लोगों को मधुमेह की समस्या होती है, उनके लिए मेथी के बीजों का सेवन करना काफी लाभदायक माना जाता है क्योंकि यह रक्त में शर्करा के स्तर को कम करता है। लेकिन जो डायबिटीक लोग पहले से ही दवाइयों का सेवन कर रहे हैं उन्हें इसका सेवन करने से पहले डॉक्टर से सलाह अवश्य लेनी चाहिए। अन्यथा इससे आपकी परेशानी बढ़ सकती है।