गैंगरेप वायरल वीडियो मामला: आरोपियों की गिरफ्तारी में जुटी पुलिस

By - May 20, 2018 12:52 PM
गैंगरेप वायरल वीडियो मामला: आरोपियों की गिरफ्तारी में जुटी पुलिस

पटना: बिहार में पिछले दिनों वायरल हुए गैंगरेप के एक वीडियो में पुलिस ने बड़ी कार्रवाई की है. इस मामले में पुलिस ने आखिरकार पीड़िता को खोज निकाला है और आरोपितों की पहचान कर ली है. पीड़िता के साथ ही आरोपी भी पटना स्थित नौबतपुर के रहने वाले हैं. पुलिस ने पीड़िता का बयान दर्ज कराने के साथ ही आरोपियों की गिरफ्तारी के प्रयास में जुट गयी है. वायरल वीडियो के आधार पर आरोपियों की पहचान हुई है. संभावना जतायी जा रही है कि आरोपित बिहार छोड़कर फरार हो गये है. इस मामले में गया के एसएसपी राजीव मिश्रा ने न्यूज एजेंसी एएनआइ से बातचीत में बताया कि इस मामले में केस दर्ज किया गया है. पीड़िता और आरोपितों की पहचान कर ली गयी है. आरोपितों की गिरफ्तारी के प्रयास में पुलिस जुटी है. मालूम हो कि वायरल वीडियो में मगही भाषा बोली जा रही थी जो कि बिहार के मगध क्षेत्र यानी जहानाबाद, गया, औरंगाबाद और अरवल में बोली जाने वाली भाषा है. वहीं, सूत्रों के अनुसार गया पुलिस व पटना पुलिस द्वारा गैंगरेप के दो आरोपितों को पकड़ने की चर्चा है. हालांकि, इस बात की आधिकारिक पुष्टि न तो पटना पुलिस कर रही है और न ही गया पुलिस. पुलिस का कहना है कि फिलहाल सभी आरोपित फरार है. पुलिस ने पीड़िता की पहचान कर ली और घटना में शामिल लोगों के नाम-पता की जानकारी ले चुकी है. हालांकि, पुलिस उनके नामों का खुलासा नहीं कर रही है. युवक नौबतपुर इलाके के ही हैं और वे लोग लड़की को अच्छी तरीके से जानते थे. पुलिस को जानकारी मिली है कि यह घटना नौबतपुर इलाके में विक्रम लखपुर नहर के पश्चिम नारायणपुर फील्ड में घटित हुई थी और इस दौरान वीडियो भी बनाया गया और उसे वायरल कर दिया. सूत्रों के अनुसार जब मामला बढ़ने लगा और पुलिस के पास पहुंचा तो आरोपितों ने युवती की शादी उसके ही प्रेमी से करा दी. फिलहाल युवती व उसके प्रेमी से पुलिस ने पूछताछ करने के साथ ही दोनों का बयान गया जिला न्यायालय में कराया है. बताया जाता है कि यह घटना मई के प्रथम सप्ताह की है. क्योंकि पांच मई को ही गैंगरेप का वीडियो वायरल हो गया था. लड़की का ननिहाल नौबतपुर में है और वह खुद जहानाबाद के कलपा इलाके की रहने वाली है.

वह अपने प्रेमी के साथ अपने गांव से कुछ दूरी पर नारायणपुर फिल्ड में बात कर रही थी. इसी बीच उसी इलाके के युवकों ने देख लिया और फिर गैंगरेप की घटना को अंजाम दे डाला. एक युवक ने वीडियो बना डाली और उसे वायरल कर दिया.यह वायरल वीडियो राज्य अनुसूचित जाति आयोग के पूर्व अध्यक्ष विधानंद विकल के वाट्सअप पर भी उनके एक सहयोगी ने गया जिला से भेजा. कई लोग उस वीडियो को फर्जी मान रहे थे, लेकिन विधानंद विकल ने उसे गंभीरता से लेते हुए आईजी कमजोर वर्ग व अन्य पुलिस अधिकारियों को भेजा और कार्रवाई करने का आग्रह किया. पुलिस अधिकारियों ने भी तुरंत संज्ञान लिया और फिर आईजी कमजोर वर्ग व जोनल आईजी के निर्देश पर गया जिले के कोतवाली थाने में प्राथमिकी दर्ज की गयी. पटना,जहानाबाद और गया जिले की पुलिस व चैकीदार के साथ ही विकास मित्र को उन तमाम आरोपितों की फोटो भेजी गयी जो वायरल वीडियो में स्पष्ट रूप से दिख रहे थे. इसके बाद उन युवकों के संबंध में जानकारी मिली तो वे फरार मिले. इसके बाद पुलिस ने उनके परिजनों से पूछताछ की तो यह जानकारी मिली कि वे लोग बिहार के बाहर चले गये हैं. यह भी जानकारी मिली है कि उन लोगों ने लड़की की उसके प्रेमी से स्थानीय एक मंदिर में शादी कर मामले को दबाने का प्रयास किया है. इसके बाद पुलिस ने लड़की व उसके प्रेमी से पूछताछ की. जिसमें पूरी घटना की सारी कहानी सामने आ गयी.