खेतों में धान व मक्का के लिए बरसा अमृत

By - Jul 12, 2018 10:53 AM
खेतों में धान व मक्का के लिए बरसा अमृत

फर्रुखाबाद। बरसात में ही नहीं गन्ना व धान की फसल के लिए आसमान से अमृत बरसा, इससे जिलेभर के किसानों के चेहरे खिल गए। यह बरसात धान व मक्के की फसल के लिये अमृत मानी जा रही है। जबकि मौसमी सब्जी की तबियत बिगड़ सकती है। गुरुवार सुबह से रूक रूककर शुरू हुई बारिश की वजह से जलभराव होने से जहां शहरवासी खासे चिंतित दिखे, वहीं किसानों के चेहरे खिल गए। चूंकि अघोषित विधुत कटौती और संसाधनों के अभाव में ज्यादातर किसान फसलों की सिंचाई नहीं कर पाए थे। वैसे तो अधिकांश गांवों में धान की पौध की रोपाई का काम चल रहा है कुछ जगह पर रोपाई का काम पूर्ण हो चुका है, मगर जो किसान अभी धान की रोपाई नहीं कर पाए थे। उनके लिए बारिश किसी वरदान से कम नहीं थी। वैसे भी बारिश का पानी धान, गन्ना व मक्का की फसल के लिए अमृत साबित हुआ है। अमृतपुर के ग्राम हरसिंगपुर निवासी किसान साधुराम, रानी देवी व श्याम सिंह बरसात में ही धान की रोपाई करते दिखे। बात करने पर बताया की अब बरसात होने से धान की रोपाई बेहद आसान तो हो ही गयी है वही फसल के लिये लाभकारी भी है। जबकि सब्जी की खेती के लिए बारिश थोड़ी नुकसान देने वाली साबित हुई। वही विकास खंड बढ़पुर के ग्राम विजाधरपुर निवासी किसान आशाराम पाल ने बताया कि जो फसले अभी बोई नहीं गयी उनके लिये यह पानी लाभदायक है। मक्के व धान की नई फसल के लिये यह बरसात अमृत से कम नही है। उन्होंने बताया इनके अलावा सब्जी वाली फसलों को भी नुकसान की संभावना जताई है।