बनारस में जर्मनी के राष्ट्रपति का हुआ भव्य स्वागत, भगवान बुद्ध के अस्थि कलश का किया दर्शन

By - Mar 22, 2018 01:17 PM
बनारस में जर्मनी के राष्ट्रपति का हुआ भव्य स्वागत, भगवान बुद्ध के अस्थि कलश का किया दर्शन

वाराणसी: जर्मनी के राष्ट्रपति फ्रैंक वाल्टर स्टाइनमायर का बनारस में गुरुवार को भव्य स्वागत किया है। बाबतपुर हवाई अड्डे पर मेयर श्रीमती मुदृला जायसवाल ने विदेशी राष्ट्राध्यक्ष का भव्य स्वागत किया है। इसके बाद जर्मनी के राष्ट्रपति ने सारनाथ जाकर वहां से संग्राहल देखा है। जिस रूट से जर्मनी के राष्ट्रपति गुजरते थे वहां पर बच्चे से लेकर बड़े तक हाथ में दोनों देशों का झंडा लेकर उनका भव्य स्वागत करते रहे। बाबतपुर हवाई अड्डे पर हुए भव्य स्वागत से खुश होकर विदेशी राष्ट्राध्यक्ष सीधे सारनाथ पहुंच गये। यहां पर उन्होंने म्यूजियम को देखा और बोद्ध व मौर्य काल से जुड़ी जानकारी ली। २० मिनट तक म्यूजिम को बारीकी से देखने के बाद जर्मनी के राष्ट्रपति फ्रैंक वाल्टर स्टाइनमायर बौद्ध मंदिर गये और वहां पर भगवान बुद्ध की अस्थियों को दर्शन किया। इसके बाद दोपहर का लंच करने के लिए होटल ताज लौट आये हैं। थोड़ी देर विश्राम करने के बाद जर्मनी के राष्ट्रपति फ्रैंक वाल्टर स्टाइनमायर सीधे बीएचयू जायेंगे। यहां पर एक कार्यक्रम में भाग लेने के बाद अस्सी घाट पहुेंचेंगे। अस्सी से दशाश्वमेध घाट तक नौका विहार करने के बाद गंगा आरती देखेंगे। इसके बाद ही वह नई दिल्ली के लिए रवाना होंगे। पीएम नरेन्द्र मोदी के बनारस से सांसद बनने के बाद यहां पर विदेशी राष्ट्राध्यक्षों का आना शुरू हो गया है। दो साल पहले यहां पर जापान के पीएम शिंजो आबे आये थे और उन्होंने गंगा आरती देखी थी। इसके बाद मार्च 2018 को फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रां भी अपनी पत्नी के साथ बनारस पहुंचे थे। फ्रांस के राष्ट्रपति ने अस्सी से दशाश्वमेध तक नौका विहार किया था और १२ से अधिक घंटे का समय बनारस व मिर्जापुर को दिया था। जिस तरह से बनारस में विदेशी राष्ट्राध्यक्ष आ रहे हैं उससे विश्व स्तर पर बनारस के पर्यटन को बढ़ावा मिलना तय है।