साउथ कोरिया ने 2-0 से हराया, टूर्नामेंट से बाहर जर्मनी

By - Jun 28, 2018 08:25 AM
 साउथ कोरिया ने 2-0 से हराया, टूर्नामेंट से बाहर जर्मनी

वातुतिनकीः किम यंग ग्वोन और सोन हियुंग मिन के इंजरी टाइम में दागे गोलों की बदौलत दक्षिण कोरिया ने विश्व कप के ग्रुप एफ मैच में आज यहां विश्व चैंपियन जर्मनी को 2-0 से हराकर टूर्नामेंट के पहले दौर से ही बाहर कर दिया। कोरिया की ओर से ग्वोन (90 प्लस दो मिनट) और सोन हियुंग मिन (90 प्लस छह मिनट) दोनों ने इंजरी टाइम में गोल दागे। पिछले पांच विश्व कप में यह चौथा मौका है जब गत चैंपियन टीम पहले दौर में ही टूर्नामेंट से बाहर हो गई। इससे पहले 2002 में फ्रांस, 2010 में इटली और 2014 में स्पेन को इस तरह की मायूसी का सामना करना पड़ा था। जर्मनी की टीम पहली बार विश्व कप के ग्रुप चरण की बाधा को पार करने में विफल रही है। वह 16वीं बार विश्व कप में खेल रही थी और पहली बार पहले दौर से आगे बढऩे में नाकाम रही।
कोरिया की टीम भी विश्व कप से बाहर हो गई। ग्रुप एफ में जर्मनी की टीम तीन मैचों में एक जीत और दो हार के बाद तीन अंक के साथ अंतिम स्थान पर रही। कोरिया ने भी एक जीत और दो हार से तीन अंक जुटाकर तीसरा स्थान हासिल किया। इस ग्रुप से मैक्सिको और स्वीडन 6-6 अंक जुटाकर प्री क्वार्टर फाइनल में जगह बनाने में सफल रहे। जर्मनी और दक्षिण कोरिया दोनों ने मैच की तेज शुरुआत की। दक्षिण कोरिया ने मैच का पहला मूव बनाया लेकिन सफलता नहीं मिली।
वर्ष 2010 के सेमीफाइनल में स्पेन के खिलाफ 0-1 की हार के बाद यह पहला विश्व कप मैच में जिसमें जर्मनी ने थामस म्यूलर को शुरुआत एकादश में जगह नहीं दी। जर्मनी को चौथे मिनट में फ्री किक मिली लेकिन टोनी क्रूज हाफ लाइन के करीब से शाट लेते हुए कुछ कमाल नहीं कर सके। पांचवें मिनट में जर्मनी के टिमो वर्नर ने मार्को रुइस को हाफ लाइन से अच्छा क्रास दिया लेकिन दक्षिण कोरिया के डिफेंस ने इस प्रयास को नाकाम कर दिया।
मैच के 10वें मिनट में दक्षिण कोरिया के जुंग वू यंग को योनस हेक्टर फाउल करने के लिए पीला कार्ड दिखाया गया। जोशुआ किमिच के खिलाफ मून सियोन मिन के फाउल पर जर्मनी को फ्रीक किक मिली लेकिन इस बार भी क्रूज का शाट कोई खतरा पैदा नहीं कर सका। सैमी खेदिरा के फाउल पर कोरिया को भी फ्री किक मिली। वू यंग ने 30 गज की दूरी से दनदनाता हुआ शाट मारा लेकिन चोट के कारण सितंबर के बाद सिर्फ तीसरा प्रतिस्पर्धी मैच खेल रहे गोलकीपर कप्तान मैनुएल नुएर ने इसे रोका दिया। वह हालांकि गेंद को पकड़ नहीं पाए लेकिन रक्षा पंक्ति ने खतरे को टाल दिया।
मैच के 24वें मिनट में दक्षिण कोरिया के ली जेई सुंग को भी लियोन गोरेत्का पर फाउल के लिए पीला कार्ड दिखाया गया। अगले ही मिनट में दक्षिण कोरिया ने अच्छा मूव बनाया। ली योंग ने सोन ह्यंग मिंग को शानदार क्रास दिया लेकिन वह सिर्फ 10 गज से दूरी से शाट बाहर मार गए। मेसुत ओजिल और वर्नर के अच्छे क्रास को दक्षिण कोरिया के डिफेंस ने नाकाम किया। मैच के 24वें मिनट में दक्षिण कोरिया के ली जेई सुंग को भी लियोन गोरेत्का पर फाउल के लिए पीला कार्ड दिखाया गया। अगले ही मिनट में दक्षिण कोरिया ने अच्छा मूव बनाया। ली योंग ने सोन ह्यंग मिंग को शानदार क्रास दिया लेकिन वह सिर्फ 10 गज से दूरी से शाट बाहर मार गए। मेसुत ओजिल और वर्नर के अच्छे क्रास को दक्षिण कोरिया के डिफेंस ने नाकाम किया।
वर्नर के पास 43वें मिनट में भी मौका था लेकिन वह आफ साइड हो गए। पहले हाफ के अंतिम लम्हों ने दोनों टीमों ने अच्छे मूव बनाए लेकिन गोल नहीं कर पाए। मध्यांतर के बाद पहले ही मिनट में कोरिया को फ्री किक मिली लेकिन जुंग वू ङ्क्षयग के 23 गज की दूरी से लगाए शाट को नुएर ने रोक दिया। दो मिनट बाद जर्मनी की टीम बढ़त बनाने के करीब पहुंची लेकिन जोशुआ किमिच के क्रास पर गोरेत्का के हैडर को दक्षिण कोरियाई गोलकीपर ने रोक दिया।
चो ह्युन वू को इस बीच क्रूज के खिलाफ फाउल के कारण पीला कार्ड दिखाया गया। वर्नर की नाकाम दूसरे हाफ में भी जारी रही और इस बार 16 गज की दूरी से लगाया उनका शाट निशाने पर नहीं रहा। जर्मनी के कोच जोकिम लोव ने इस बीच अपने आक्रमण को मजबूत करते हुए खेदिरा की जगह स्ट्राइकर मारियो गोमेज को मैदान पर उतारा। क्रूज, ओजिल और वर्नर की तिकड़ी इस बीच 62वें मिनट में एक बार फिर अच्छे मूव को गोल में बदलने में नाकाम रही। लोव ने इसके बाद गोरेत्का को भी बाहर करते हुए म्यूलर को मैदान पर उतार दिया। कोरिया के कप्तान सोन हियुंग मिन को इस बीच पीला कार्ड दिखाया गया। उनकी टीम ने दो अच्छे मूव बनाए लेकिन गोल नहीं कर सके।
जर्मनी को 70वें मिनट में मौका मिला लेकिन इस बार क्रूज 25 गज की दूरी से शाट बाहर मार गए। कोरिया को 79वें मिनट में बढ़त बनाने का मौका मिला लेकिन सोन हियुंग मिन का 20 गज की दूरी से लगाया शाट मामूली अंतर से बाहर निकल गया। जर्मनी ने अंतिम लम्हों में कई अच्छे मूव बनाए लेकिन उसके स्ट्राइकर गोल करने में नाकाम रहे। कोरिया ने इस बीच इंजरी टाइम के दूसरे मिनट में किम यंग ग्वोन की बदौलत गोल किया लेकिन रैफरी ने उन्हें आफ साइड करार देकर इसे नकार दिया। ग्वोन ने छह गज की दूरी से गेंद को गोल में पहुंचाया था। कोरिया ने हालांकि इसके बाद वीएआर का सहारा लिया और वीडियो रैफरी ने इसे गोल करार दिया। चार मिनट बार सोन हियुंग मिन ने एक और गोल दागकर कोरिया की 2-0 से जीत सुनिश्चित की।